सुकन्या समृद्धि योजना 2024, उद्देश्य, योग्यता, लाभ और आवेदन प्रक्रिया | Sukanya Samriddhi Yojana (SSY) 2024 in Hindi

सुकन्या समृद्धि योजना, उद्देश्य, पात्रता, लाभ, आवश्यक दस्तावेज, डाकघर या बैंक में सुकन्या समृद्धि योजना खाता कैसे खोलें, अप्रैल 2023 से जून 2023 तक ब्याज दर बढ़कर 8.0% हुआ, Sukanya Samriddhi Yojana in Hindi, Know all about Sukanya Samriddhi Yohaja, Objectives, Eligibility, Benefits, How to Apply in Hindi

सुकन्या समृद्धि योजना भारत सरकार द्वारा बालिकाओं की बेहतरी के लिए शुरू की गई थी। यह योजना माता-पिता को जागरूक करने और उन्हें अपनी बेटी के लिए पैसे बचाने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से शुरू की गई थी, जिसका उपयोग बाद में उसकी शिक्षा और शादी के लिए किया जा सकता है। इस लेख में, हम इस योजना के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे जैसे कि यह क्या है, इसके उद्देश्य, पात्रता, लाभ आदि, इसलिए लेख को अंत तक पढ़ें।

Table of Contents

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) संक्षिप्त विवरण

योजना का नाम सुकन्या समृद्धि योजना
योजना का प्रकार सरकारी योजना
शुरू होने की तिथि 22 जनवरी 2015
लाभार्थी 10 वर्ष से कम आयु की बालिका
खाता कहाँ खोल सकते हैं सिर्फ डाकघरों और अधिकृत बैंकों में ही
ब्याज दर 8.0% प्रति वर्ष
न्यूनतम निवेश राशि रु. 250 प्रति वर्ष
अधिकतम निवेश राशि रु. 1.5 लाख प्रति वर्ष
राशि जमा करने की अवधि
  • खाता खोलने की तिथि से 21 वर्ष तक
  • 15 साल तक जमा करना अनिवार्य है
परिपक्वता अवधि 21 वर्ष (या 18 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद बालिका का विवाह होने पर)

सुकन्या समृद्धि योजना क्या है?

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY Scheme) भारत सरकार द्वारा ‘बेटी बचाओ, बेटी पढाओ’ अभियान के तहत शुरू की गई बालिकाओं के लिए एक बचत योजना है। इस योजना का उद्देश्य माता-पिता को अपनी बेटी की शिक्षा और शादी के खर्च के लिए पैसे बचाने के लिए प्रोत्साहित करना है। इसे 22 जनवरी 2015 को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉन्च किया गया था और यह देश भर के सभी डाकघरों और नामित बैंकों में उपलब्ध है।

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत माता-पिता अपनी 10 साल से कम उम्र की बेटी के नाम पर बचत खाता खुलवा सकते हैं। खाता को एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम 250 रुपये और अधिकतम 1.5 लाख रुपये जमा करके खोला जा सकता है। खाता को तब तक संचालित किया जा सकता है जब तक कि बालिका 21 वर्ष की आयु प्राप्त नहीं कर लेती।

यह योजना एक आकर्षक ब्याज दर प्रदान करती है, जिसे समय-समय पर सरकार द्वारा संशोधित और अधिसूचित किया जाता है। ब्याज दर वर्तमान में 8.0% प्रति वर्ष (जून 2023 तक) है। अर्जित ब्याज और परिपक्वता राशि (maturity amount) कर-मुक्त है, और योगदान आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80C के तहत कर कटौती (कर में छुट ) के लिए पात्र है।

इस योजना के कई लाभ हैं, जिसमें खाता का आसानी से संचालन कर पाना और माता-पिता के लिए अपनी बेटी के भविष्य को सुरक्षित करने के लिए कम जोखिम वाले निवेश के विकल्प शामिल हैं। यह बालिकाओं की शिक्षा और सशक्तिकरण को भी प्रोत्साहित करता है, जिससे देश में लैंगिक समानता को बढ़ावा मिलता है।

सुकन्या समृद्धि योजना के उद्देश्य

सुकन्या समृद्धि योजना का उद्देश्य शिक्षा, लैंगिक समानता, वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देना और माता-पिता को अपनी बेटी के भविष्य के लिए पैसे बचाने के लिए प्रोत्साहित करना है।

सुकन्या समृद्धि योजना योजना के मुख्य उद्देश्य इस प्रकार हैं:

शिक्षा को बढ़ावा देना

इस योजना का उद्देश्य माता-पिता को अपनी बेटी की शिक्षा के लिए पैसे बचाने के लिए प्रोत्साहित करना और उन्हें गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के साथ सशक्त बनाना है, जो उनके समग्र वृद्धि और विकास के लिए आवश्यक है।

लैंगिक समानता को बढ़ावा देना

यह योजना “बेटी बचाओ, बेटी पढाओ” अभियान का हिस्सा है, जिसका उद्देश्य बालिकाओं को सशक्त बनाना, शिक्षित करना और देश में लैंगिक समानता को बढ़ावा देना है।

सुरक्षित भविष्य

यह योजना उन माता-पिता के लिए एक सुरक्षित निवेश का विकल्प प्रदान करती है जो अपनी बेटी के भविष्य को सुरक्षित करना चाहते हैं और उसकी शिक्षा और शादी के खर्चों के लिए पर्याप्त धनराशि जमा करना चाहते हैं।

बचत बढ़ाना

इस योजना का उद्देश्य माता-पिता को नियमित रूप से पैसे बचाने के लिए प्रोत्साहित करना और बचत करने की आदत डालना है, जो उनकी वित्तीय भलाई के लिए आवश्यक है।

वित्तीय समावेशन

यह योजना देश भर के सभी डाकघरों और नामित बैंकों में उपलब्ध है, जो वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देती है और ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को वित्तीय सेवाओं तक पहुंचने में मदद करती है।

सुकन्या समृद्धि योजना के लिए पात्रता मानदंड

सुकन्या समृद्धि योजना के लिए पात्रता मानदंड इस प्रकार हैं:

बालिका की आयु

खाता केवल उस बालिका के नाम पर खोला जा सकता है जो भारत की निवासी है और 10 वर्ष से कम आयु की है। बालिका के जन्म के एक वर्ष के भीतर खाता खोला जा सकता है।

खातों की संख्या

एक परिवार में दो बच्चियों के लिए अधिकतम दो सुकन्या समृद्धि योजना खाते खोले जा सकते हैं। हालांकि, जुड़वां लड़कियों के मामले में, माता-पिता तीन खाते खोल सकते हैं, प्रत्येक बच्चे के लिए एक और दूसरा संयुक्त खाता।

नागरिकता

खाता खोलने के लिए बालिका को भारत का निवासी होना चाहिए।

जमा राशि

सुकन्या समृद्धि योजना खाता में एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम 250 रुपये की जमा राशि के साथ खोला जा सकता है और अधिकतम 1.5 लाख रुपये जमा किया जा सकता है। खाता खोलने की तारीख से 15 साल पूरे होने तक जमा किया जा सकता है। इसके बाद, सुकन्या समृद्धि योजना खाता परिपक्वता तक ब्याज अर्जित करता रहेगा, भले ही इसमें कोई जमा न किया गया हो।

बालिका के माता-पिता या कानूनी अभिभावक खाता खोल सकते हैं, और प्रत्येक बालिका के लिए केवल एक ही खाता खोला जा सकता है। यदि बालिका किसी नए स्थान पर चली जाती है तो खाते को भारत में कहीं भी स्थानांतरित किया जा सकता है, और 18 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद बालिका के विवाह के मामले में खाता परिपक्वता से पहले बंद किया जा सकता है।

सुकन्या समृद्धि योजना के लाभ

सुकन्या समृद्धि योजना बालिका और उसके माता-पिता को कई लाभ प्रदान करती है। योजना के कुछ लाभ इस प्रकार हैं:

उच्च ब्याज दर

यह योजना 8.0% प्रति वर्ष (जून 2023 तक) की उच्च ब्याज दर प्रदान करती है, जो पीपीएफ, एनएससी और एफडी जैसी अन्य बचत योजनाओं की तुलना में बहुत अधिक है।

कर लाभ

योजना के लिए किए गए योगदान आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80 C के तहत एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम 1.5 लाख रुपये तक कर कटौती के लिए पात्र हैं। अर्जित ब्याज और परिपक्वता राशि भी कर-मुक्त है।

लंबी अवधि का निवेश

इस योजना में 21 वर्षों का दीर्घकालिक निवेश होता है, जो माता-पिता को अपनी बेटी की भविष्य की शिक्षा और शादी के खर्चों के लिए पर्याप्त कोष जमा करने में मदद कर सकता है।

खाता संचालन आसान

खाता 250 रुपये की न्यूनतम जमा राशि के साथ खोला जा सकता है और देश भर में किसी भी डाकघर या नामित बैंक में संचालित किया जा सकता है।

सुरक्षित निवेश

यह योजना भारत सरकार द्वारा समर्थित है, जो इसे अपनी बेटी के भविष्य को सुरक्षित करने के इच्छुक माता-पिता के लिए एक सुरक्षित निवेश विकल्प बनाती है।

शिक्षा और सशक्तिकरण को बढ़ावा देता है

यह योजना माता-पिता को अपनी बेटी की शिक्षा और सशक्तिकरण के लिए पैसे बचाने के लिए प्रोत्साहित करती है, जिससे देश में लैंगिक समानता को बढ़ावा मिलता है।

कुल मिलाकर, सुकन्या समृद्धि योजना योजना उन माता-पिता के लिए एक उत्कृष्ट निवेश विकल्प है जो अपनी बेटी के भविष्य को सुरक्षित करना चाहते हैं और उसकी शिक्षा और सशक्तिकरण को बढ़ावा देना चाहते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत कर लाभ और छूट

सुकन्या समृद्धि योजना आयकर अधिनियम, 1961 की निम्नलिखित धाराओं के तहत कर लाभ और छूट प्रदान करती है:

धारा 80 C

योजना के लिए किए गए योगदान आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80 C के तहत एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम 1.5 लाख रुपये तक कर कटौती के लिए पात्र हैं। इसका मतलब यह है कि योजना में निवेश की गई राशि को करदाता की कुल कर योग्य आय से कटौती के रूप में दावा किया जा सकता है, जिससे उनकी कर देनदारी कम हो जाती है।

धारा 10(11A)

अर्जित ब्याज और परिपक्वता राशि आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 10(11A) के तहत कर-मुक्त है। इसका मतलब है कि अर्जित ब्याज और परिपक्वता राशि को कर योग्य आय नहीं माना जाता है और करदाता को इन राशियों पर कोई कर भुगतान नहीं करना पड़ता है।

कर लाभ केवल उस व्यक्ति के लिए उपलब्ध है जिसने योजना में निवेश किया है, जिसका अर्थ है कि बालिका के माता-पिता या कानूनी अभिभावक कर कटौती और छूट का दावा कर सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना खाता स्थानांतरण और निकासी नियम

सुकन्या समृद्धि योजना खाते के स्थानांतरण और निकासी के नियम इस प्रकार हैं:

खाते का स्थानांतरण

यदि बालिका का परिवार दूसरे शहर या कस्बे में चला जाता है, तो वे सुकन्या समृद्धि योजना खाते को नए स्थान पर स्थानांतरित कर सकते हैं। खाते को स्थानांतरित करने के लिए, खाताधारक को खाता खोलने के फॉर्म, केवाईसी दस्तावेजों और मूल पासबुक के साथ उस डाकघर या बैंक में स्थानांतरण आवेदन जमा करना होगा जहां खाता है। खाते को स्थानांतरित करने के लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाता है।

आंशिक निकासी

यह योजना उच्च शिक्षा या शादी के खर्चों के लिए बालिका के 18 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद खाते से आंशिक निकासी की अनुमति देती है। निकासी की राशि, निकासी के वर्ष से पहले के वित्तीय वर्ष के अंत में खाते में शेष राशि के 50% से अधिक नहीं हो सकती है। खाताधारक को संबंधित दस्तावेजों, जैसे उच्च शिक्षा के लिए प्रवेश या शुल्क रसीद या विवाह निमंत्रण कार्ड के साथ निकासी के लिए एक आवेदन जमा करना होगा।

खाता समय से पहले बंद करना

बालिका की मृत्यु या चिकित्सकीय आपात स्थिति जैसे गंभीर मामलों में खाते को समय से पहले बंद किया जा सकता है। खाताधारक को समय से पहले बंद करने के लिए प्रासंगिक दस्तावेजों, जैसे कि बालिका का मृत्यु प्रमाण पत्र या चिकित्सा प्रमाण पत्र के साथ एक आवेदन जमा करना होगा। समय से पहले बंद करने की स्थिति में, लागू ब्याज दर डाकघर या बैंक के बचत खाते की ब्याज दर के अनुसार होगी।

इस योजना में 21 वर्ष की लॉक-इन अवधि है, जिसका अर्थ है कि केवल विशिष्ट परिस्थितियों में ही निकासी या समय से पहले बंद करने की अनुमति है। खाते के हस्तांतरण, आंशिक निकासी, या खाते के समय से पहले बंद करने के लिए खाताधारक को प्रासंगिक दस्तावेज प्रदान करने और डाकघर या बैंक द्वारा निर्दिष्ट प्रक्रिया का पालन करने की आवश्यकता होती है।

सुकन्या समृद्धि योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

सुकन्या समृद्धि योजना खाता खुलवाने के लिए निम्नलिखित दस्तावेज आवश्यक हैं:

बालिका का जन्म प्रमाण पत्र

नगर निगम या स्थानीय अधिकारियों द्वारा जारी किए गए जन्म प्रमाण पत्र की एक प्रति को बालिका की उम्र के प्रमाण के रूप में प्रस्तुत करना होगा।

जमाकर्ता का पहचान प्रमाण

जमाकर्ता को निम्नलिखित पहचान प्रमाणों में से कोई एक प्रस्तुत करना होगा: पैन कार्ड, आधार कार्ड, पासपोर्ट, या मतदाता पहचान पत्र।

जमाकर्ता का पता प्रमाण

जमाकर्ता को निम्नलिखित पता प्रमाणों में से कोई एक प्रस्तुत करना होगा: पासपोर्ट, मतदाता पहचान पत्र, या आधार कार्ड।

बालिका और जमाकर्ता की तस्वीरें

आवेदन पत्र के साथ बालिका और जमाकर्ता की दो पासपोर्ट आकार की तस्वीरें जमा करनी होंगी।

ऊपर बताए गए दस्तावेज़ डाकघर या बैंक के आधार पर भिन्न हो सकते हैं जहाँ खाता खोला गया है। उपरोक्त दस्तावेजों के अलावा, जमाकर्ता को सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने का फॉर्म भरना होगा और सभी आवश्यक विवरण जैसे कि बालिका का नाम, जन्म तिथि, पता और बहुत कुछ प्रदान करना होगा। खाता या तो बालिका के नाम पर या बालिका और जमाकर्ता के साथ संयुक्त खाते के रूप में खोला जा सकता है।

सुकन्या समृद्धि योजना खाता कैसे खुलवाये

सुकन्या समृद्धि योजना खाता खुलवाने के लिए, निम्नलिखित चरणों का पालन करना होगा:

निकटतम डाकघर या अधिकृत बैंक पर जाएँ

सुकन्या समृद्धि योजना खाते किसी भी डाकघर या अधिकृत बैंक, जैसे भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई), पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी), आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा और अन्य में खोले जा सकते हैं।

आवश्यक दस्तावेज जमा करें

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, सुकन्या समृद्धि योजना खाता खुलवाने के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होती है:

  • बालिका का जन्म प्रमाण पत्र
  • जमाकर्ता का पहचान प्रमाण
  • जमाकर्ता का पता प्रमाण
  • बालिका और जमाकर्ता की फोटो

आवेदन पत्र भरें

जमाकर्ता को सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के फॉर्म को सभी आवश्यक विवरणों के साथ भरना होगा, जैसे कि बालिका का नाम, जन्म तिथि, पता और बहुत कुछ।

प्रारंभिक राशि जमा करें

सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के लिए आवश्यक न्यूनतम राशि 250 रुपये है, और एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम राशि 1.5 लाख रुपये है। खाता खोलते समय जमाकर्ता को प्रारंभिक राशि जमा करनी होगी।

खाता पासबुक प्राप्त करें

एक बार खाता खोलने के बाद, जमाकर्ता को एक पासबुक प्राप्त होगी जिसमें खाते के सभी विवरण शामिल होंगे, जैसे कि खाता संख्या, बालिका का नाम, जमा राशि, अर्जित ब्याज, और बहुत कुछ।

सुकन्या समृद्धि योजना खाता या तो बालिका के नाम पर या बालिका और जमाकर्ता के साथ संयुक्त खाते के रूप में खोला जा सकता है। साथ ही अकाउंट को एक पोस्ट ऑफिस या बैंक से दूसरे पोस्ट ऑफिस या बैंक में ट्रांसफर किया जा सकता है।

सुकन्या समृद्धि योजना की ब्याज दर

सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई) की ब्याज दर सरकार द्वारा तय की जाती है। हर तिमाही में ब्याज दर की समीक्षा की जाती है। इसके लॉन्च के बाद से ब्याज दर कम हो रही है। 1 अप्रैल 2020 से 31 मार्च 2023 तक ब्याज दर लगातार 7.6% ही थी। 01 अप्रैल 2023 से 31 दिसम्बर 2023 की अवधि के लिए ब्याज दर बढ़ाकर 8.0% कर दी गई है।

सुकन्या समृद्धि योजना योजना द्वारा दी जाने वाली ब्याज दर नीचे दी गई है:

अवधि ब्याज की दर (%)
03.12.2014 – 31.03.2015 9.1
01.04.2015 – 31.03.2016 9.2
01.04.2016 – 30.09.2016 8.6
01.10.2016 – 31.03.2017 8.5
01.04.2017 – 30.06.2017 8.4
01.07.2017 – 31.12.2017 8.3
01.01.2018 – 30.09.2018 8.1
01.10.2018 – 30.06.2019 8.5
01.07.2019 – 31.03.2020 8.4
01.04.2020 – 31.03.2023 7.6
01.04.2023 – 30.06.2023 8.0
01.07.2023 – 30.09.2023 8.0
01.10.2023 – 31.12.2023 8.0

सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के लिए अधिकृत / नामित बैंक

सरकार ने सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई योजना) के तहत खाता खोलने के लिए निम्नलिखित बैंकों को अधिकृत या नामित किया है:

  • ऐक्सिस बैंक
  • बैंक ऑफ बड़ौदा
  • बैंक ऑफ इंडिया
  • बैंक ऑफ महाराष्ट्र
  • केनरा बैंक
  • सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया
  • आईसीआईसीआई बैंक
  • आईडीबीआई बैंक
  • इंडियन बैंक
  • इंडियन ओवरसीज बैंक
  • पंजाब एंड सिंध बैंक
  • पंजाब नेशनल बैंक
  • भारतीय स्टेट बैंक
  • यूको बैंक
  • यूनियन बैंक ऑफ इंडिया

निष्कर्ष

अंत में हम यह कह सकते हैं कि, सुकन्या समृद्धि योजना एक सरकार समर्थित बचत योजना है जिसे विशेष रूप से बालिकाओं के कल्याण के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह योजना विभिन्न लाभ प्रदान करती है, जैसे कर छूट, उच्च ब्याज दर और परिपक्वता लाभ। पात्रता मानदंड सरल और स्पष्ट हैं, और खाता किसी भी डाकघर या अधिकृत बैंक में आवश्यक दस्तावेज जमा करके आसानी से खोला जा सकता है। सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करके, माता-पिता या अभिभावक अपनी बच्ची के भविष्य को सुरक्षित कर सकते हैं और उसकी शिक्षा और शादी के खर्च के लिए वित्तीय सहायता प्रदान कर सकते हैं।

F.A.Q.

सुकन्या समृद्धि योजना क्या है?

सुकन्या समृद्धि योजना बालिकाओं की शिक्षा और विवाह के लिए एक धन-बचत योजना है।

सुकन्या समृद्धि योजना के लिए कौन पात्र है?

10 वर्ष से कम आयु की लड़की सुकन्या समृद्धि योजना के लिए पात्र है।

सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ लेने के लिए हम कहाँ खाता खुलवा सकते हैं?

सुकन्या समृद्धि योजना के लिए खाता देश भर के पोस्ट ऑफिस या नामित बैंक में खुलवाया जा सकता है।

सुकन्या समृद्धि योजना खाते में सालाना कितनी राशि जमा किया जा सकता है?

सुकन्या समृद्धि योजना खाते में न्यूनतम 250 रुपये और अधिकतम 1.5 लाख रुपये सालाना निवेश किया जा सकता है।

सुकन्या समृद्धि योजना खाते में पैसा जमा करने की अवधि क्या है?

सुकन्या समृद्धि योजना खाते में खाता खोलने की तिथि से 21 वर्ष तक पैसा जमा किया जा सकता है, जिसमें 15 वर्ष तक जमा करना अनिवार्य है।

सुकन्या समृद्धि योजना खाते की परिपक्वता अवधि क्या है?

सुकन्या समृद्धि योजना खाता 21 वर्ष की अवधि पूरी होने पर परिपक्व होगा।

यह भी पढ़ें :

Leave a Comment